आज ही के दिन बारह साल पहले 26 नवंबर, 2008 की रात में, दस पाकिस्तानी आतंकवादियों ने मुंबई में पांच महत्वपूर्ण स्थलों पर गोलीबारी और बमबारी की हिंसा की, जिसमें 166 लोग मारे गए और 300 से अधिक घायल हो गए।

26 नवंबर, 2008 को, मुंबई के नरीमन हाउस व्यवसाय और आवासीय भवन, कामा अस्पताल, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन, लियोपोल्ड कैफे, ओबेरॉय-ट्राइडेंट होटल, और ताज होटल और टॉवर पर, लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों द्वारा हमला किया गया था।

मुंबई में घुसने के लिए आतंकवादियों ने पाकिस्तानी बंदरगाह, कराची से चोरी किये हुए फ़िशिंग ट्रोलर का इस्तेमाल किया।

READ  Supreme Court का Tandav के मेकर्स और जीशान अयूब को राहत देने से इन्कार

यद्यपि नौ आतंकवादियों को सशस्त्र बलों द्वारा चार-दिवसीय सफल ऑपरेशन में मार दिया गया , और एक आतंकवादी अजमल कसाब को जिंदा पकड़ा गया । जिसे 2012 में पुणे की यरवदा सेंट्रल जेल में मौत की सजा दी गई थी।

हमलों को अंजाम देने के लिए, आतंकवादियों ने एक पुलिस बस सहित कई वाहनों को चुरा लिया, और कई गिरोहों में विभाजित हो गए।

लोगों को मरने के लिए , उन्होंने लश्कर-ए-तैयबा द्वारा उपलब्ध कराए गए हथियारों और हथगोले का इस्तेमाल किया।

READ  गोरखपुर में 14 वर्षीय किशोर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, हत्या की आशंका

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ ने हाल ही में 26/11 के हमले में देश की भागीदारी की पुष्टि भी की है।

26/11 Hero , Who scarifies their life to save civilian

26/11 के पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने के लिए तेलंगाना एसोसिएशन ऑफ़ इज़राइल द्वारा एक इंटरफेथ समारोह का आयोजन किया गया था।

उन लोगों की याद में जो हमलों में मारे गए थे और एकता के लिए, एक यहूदी रब्बी, एक हिंदू पुजारी, एक ईसाई पादरी और एक सिख पुजारी ने प्रार्थनाओं का पाठ किया।

मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा (JuD) नेता, हाफिज सईद संयुक्त राष्ट्र घोषित एक आतंकवादी है।

READ  "वे आपके चैनल को बंद कर देंगे" सलमान खान ने अर्नब गोस्वामी पर बोला हमला

हाफिज सईद के JuD को लश्कर का सहयोगी माना जाता है, जो मुंबई के 26/11 हमलों के लिए कुख्यात है।

हाफिज सईद, जिस पर अमेरिका द्वारा 10 मिलियन डॉलर का इनाम रखा गया था, को पिछले साल 17 जुलाई को आतंकवादी धन उगाही मामले में पाकिस्तान में पकड़ा गया।

इस साल फरवरी में दो आतंकवादी समर्थन मामलों में, उन्हें पाकिस्तान में एक आतंकवादी-विरोधी अदालत ने 11 साल की जेल का आदेश दिया था।

26/11 terrorist – kasab

JuD के 70 वर्षीय प्रमुख को लाहौर की उच्च-सुरक्षा कोट लखपत जेल में रखा गया है।

READ  महाराष्ट्र: भंडारा जिला के सरकारी अस्पताल में आग लगने से 10 बच्चों की मौत, पीएम मोदी, CM उद्धव ठाकरे समेत अन्य नेताओं ने जताया दुख

एनआईए की मोस्ट वांटेड सूची में लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) ऑपरेशन कमांडर जकीउर रहमान लखवी वांछित है।

लखवी पाकिस्तान में 26/11 के आतंकवादी हमलों की योजना बनाने, समर्थन करने और समन्वय करने में उनकी भूमिका के लिए हिरासत में लिए गए सात संदिग्धों में से एक था।

अप्रैल 2015 में, उन्हें रावलपिंडी की अदियाला जेल से पैरोल पर रिहा किया गया था।