हैप्पी बर्थडे जीतेंद्र: जितेंद्र ने 20 साल चॉल में गुजारे थे, 5 साल के संघर्ष के बाद उन्हें फिल्म में बड़ा मौका मिला था
हैप्पी बर्थडे जीतेंद्र: जितेंद्र ने 20 साल चॉल में गुजारे थे, 5 साल के संघर्ष के बाद उन्हें फिल्म में बड़ा मौका मिला था

अभिनेता जितेंद्र हिंदी सिनेमा में अपनी अलग शैली और अभिनय के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने कई बॉलीवुड फिल्मों में अलग-अलग अंदाज में डांस कर दर्शकों के दिलों को खूब जीता है। जितेंद्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को अमृतसर, पंजाब में हुआ था। जितेंद्र का असली नाम रवि कपूर है। वह बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता तुषार कपूर और निर्माता-निर्देशक एकता कपूर के पिता हैं।

जितेंद्र के जन्म के कुछ समय बाद, उनका परिवार मुंबई के गिरगाँव में एक चॉल में आकर बस गया था । इस चॉल का नाम ‘श्याम सदम चॉल’ था। उन्होंने अपने जीवन के लगभग 20 साल इस चॉल में बिताए थे । जितेंद्र ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत 1959 में प्रदर्शित फिल्म ‘नवरंग’ से की थी। इस फिल्म में उनकी बहुत छोटी भूमिका थी। इसके बाद, जीतेंद्र को लंबे समय तक फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष करना पड़ा था ।

यह भी पढ़ें:   दीपिका पादुकोण फोटोग्राफर्स से क्यों हुईं परेशान? कार से निकलकर दी लीगल एक्शन की धमकी

लगभग पाँच वर्षों तक, जीतेन्द्र ने इंडस्ट्री में एक अभिनेता के रूप में काम पाने के लिए संघर्ष किया था । इसके बाद उन्हें वर्ष 1964 में फ़िल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ में मुख्य अभिनेता बनने का मौका मिला। इसके बाद, धीरे-धीरे जीतेन्द्र ने बॉलीवुड में अपनी खास और अलग जगह बना ली। उन्होंने कई सुपरहिट सहित 250 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। अभिनेता के साथ उन्होंने निर्माता और निर्देशक के रूप में भी काम किया और सुर्खियाँ बटोरी।

यह भी पढ़ें:   हैप्पी बर्थडे Dhvani Bhanushali : ध्‍वनि भानुशाली 'दिलबर' गाने से मशहूर हुई, इन दो गानों से बने रिकॉर्ड, जानिए उनके बारे में ये खास बातें

जीतेन्द्र ने अपने करियर के दौरान कई शानदार फिल्में बनाई जिनमें ‘परिवार’, ‘जीना की राह’, ‘वारिस’, ‘खिलौना’, ‘हमजोली’, ‘बिदाई’, ‘धर्म वीर’, जानी दुश्मन’ और ‘हिम्मतवाला’ में काम किया और फिल्मी पर्दे पर अमिट छाप छोड़ी। फिल्मों के अलावा, जीतेन्द्र अपने निजी जीवन के लिए भी चर्चा में थे। उनके बहुत कम प्रशंसकों को पता होगा कि वह बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री हेमा मालिनी से शादी करने वाले थे।

वेबसाइट के अनुसार imdb यह बात वर्ष 1974 की है। जीतेंद्र और हेमा मालिनी की ‘वारिस’ और गहरी चाल फिल्मों के दौरान बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी और धीरे-धीरे यह दोस्ती प्यार में बदल गई। जीतेंद्र और हेमा मालिनी ने शादी करने का फैसला किया और चेन्नई में थे। उस समय जीतेन्द्र का शोभा (उनकी वर्तमान पत्नी) के साथ भी रिश्ता था। इसका पता चलने पर धर्मेंद्र शोभा को लेकर मद्रास पहुंच गए। वहां शोभा ने हंगामा मचा दिया जिससे जीतेंद्र और हेमा की शादी नहीं हो पाई । धर्मेंद्र ने बाद में हेमा मालिनी से शादी की। हालांकि, जीतेंद्र, धर्मेंद्र और हेमा मालिनी के बीच की दोस्ती इस घटना के बाद भी कभी खराब नहीं हुई।