नरसिंह जयंती 2021 कथा: भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार क्यों लिया? नरसिंह जयंती पर पढ़ें यह कहानी
नरसिंह जयंती 2021 कथा: भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार क्यों लिया? नरसिंह जयंती पर पढ़ें यह कहानी

नरसिंह जयंती हर साल वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को हिंदू धर्म में मनाई जाती है। नरसिंह जयंती के अवसर पर, हिंदू धर्म के लोग भगवान विष्णु के चौथे अवतार नरसिंह की पूजा करते हैं। इस साल नरसिंह जयंती 25 मई मंगलवार को है। हिंदू धर्म में नरसिंह जयंती का विशेष महत्व है। भगवान विष्णु का नरसिंह अवतार इस बात का प्रतीक है कि जब भी किसी भक्त को संकट का सामना करना पड़ता है, तो उसकी रक्षा के लिए भगवान स्वयं अवतार लेते हैं। भगवान विष्णु ने भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए नरसिंह अवतार लिया और हिरण्यकश्यप को मारकर उसे अभय प्रदान किया। नरसिंह जयंती के दिन भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह की पूजा करने से व्यक्ति को अभय की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं नरसिंह अवतार के बारे में।

READ  Azadi Ka Amrut Mahotsav: आज साबरमती आश्रम से दांडी मार्च को रवाना करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

नरसिंह अवतार की कथा

नरसिंह जयंती 2021 कथा: भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार क्यों लिया? नरसिंह जयंती पर पढ़ें यह कहानी
नरसिंह जयंती 2021 कथा: भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार क्यों लिया? नरसिंह जयंती पर पढ़ें यह कहानी

नरसिंह जयंती के अवसर पर जो कोई भी व्रत का संकलन करता है उसे यह कथा अवश्य सुननी चाहिए। पौराणिक कथा के अनुसार, बहुत समय पहले पहले एक ऋषि हुआ करते थे, जिनका नाम ऋषि कश्यप और उनकी पत्नी का नाम दिति था। ऋषि और उनकी पत्नी दिति के 2 पुत्र थे, जिनमें से एक का नाम हरिण्याक्ष और दूसरे का नाम हिरण्यकश्यप था। हिरण्याक्ष से पृथ्वी की रक्षा के लिए भगवान विष्णु ने वराह का रूप धारण किया और उनका वध किया।

READ  Mission 2020 : 2022 में सहयोगियों के साथ 350 सीट जीतेगी भाजपा सीएम योगी आदित्यनाथ को भरोसा

भगवान विष्णु द्वारा अपने भाई की हत्या से दुखी और क्रोधित हिरण्यकश्यप ने अपने भाई की मृत्यु का बदला लेने के लिए अजेय होने का संकल्प लिया और उसने हजारों वर्षों तक घोर तप किया। हिरण्यकश्यप की तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने उसे वरदान दिया कि उसे न कोई घर में मार सकता है और न ही बाहर, न वह शस्त्र से मरेगा, न शस्त्र से, न दिन में मरेगा, न रात में, न मनुष्य से मरेगा। न पशु न आकाश में, न पृथ्वी में।

READ  जिम में हिना खान ने जब दिखाए एब्स, फैंस ने दिए ऐसे ऐसे रिएक्शन

ब्रह्माजी से वरदान पाकर हिरण्यकश्यप अजेय हो गया, उसने इंद्र से युद्ध किया और स्वर्ग पर अधिकार कर लिया, और सभी लोकों पर उसका राज हो गया । हिरण्यकश्यप इतना घिनौना हो गया कि उसने अपनी प्रजा से खुद को भगवान की तरह पूजने का आदेश दिया और आदेश न मानने वाला सजा का भागीदार होता था।

हिरण्यकश्यप के अत्याचार की कोई सीमा नहीं थी, वह भक्तों को सताने लगा। हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद एक असुर था, लेकिन वह अपने पिता के बिल्कुल विपरीत था। प्रह्लाद भगवान विष्णु का भक्त था, उसके पिता को यह पसंद नहीं आया, जिसके कारण उसने कई बार अपने पुत्र को मारने की कोशिश की, लेकिन विष्णु भक्त होने के कारण हिरण्यकश्यप प्रह्लाद का कुछ भी नहीं बिगाड़ पाया ।

READ  बॉलीवुड न्यूज़ : नरगिस और सुनील दत्त की प्रेम कहानी जो आज के प्रेमियों के लिए बहुत काम की है

भक्त प्रह्लाद पर हिरण्यकश्यप के अत्याचार की सारी हदें पार हो जाने पर भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लिया। जैसे हिरण्यकश्यप को वरदान दिया गया था, वैसे ही भगवान ने उसे मार डाला। भगवान नरसिंह ने दिन और रात के बीच आधे मानव और आधे सिंह के रूप में नरसिंह अवतार लिया। भगवान नरसिंह ने स्तंभ को फाड़कर और हिरण्यकशिपु को मुख्य द्वार के बीच अपने पैर पर लेटाकर, सिंह की तरह नुकीले नाखूनों से उसका पेट फाड़कर उसका वध कर अवतार लिया। इस तरह उन्होंने भक्त प्रह्लाद की रक्षा की। उन्होंने अर्शीवाद दिया कि जो भी भक्त वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को उनका व्रत रखेगा, वह सभी तरह के दुखों से दूर रहेगा।

READ  मंदिरा बेदी के पति और फिल्म निर्माता राज कौशल का निधन