Ayodhya Ramleela 2020

भगवान श्रीराम की पावन नगरी अयोध्या में सरयू तट के किनारे नवरात्र मे लक्ष्मणकिला में 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक भव्य रामलीला होगी। जिसका लाइव टेलीकास्ट दूरदर्शन  यूट्यूब  सोशल मीडिया आदि के माध्यम से  किया जाएगा। रामलीला को देखने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आ सकते हैं। जिनको निमंत्रण भेजा गया है।

इस रामलीला में कई सेलिब्रिटीज विभिन्न किरदारों में नजर आएंगे। इस कार्यक्रम का पूरे देश में उर्दू सहित 14 भाषाओं में सीधा प्रसारण किया जाएगा। वहीं, रामलीला को देखने के लिए शारीरिक रूप से उपस्थित होने वाले चुनिंदा दर्शकों में मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें:   बिहार चुनाव प्रचार: हाई डिमांड में हैं योगी आदित्यनाथ, नीतीश के उम्मीदवार भी कराना चाहते हैं प्रचार

महाकाव्य रामायण के अनुसार भगवान राम के जीवन पर आधारित 9 दिन की रामलीला इस बार वर्चुअल तौर पर आयोजित की जा रही है। महामारी के कारण इस साल रामलीला में दर्शकों को आने की अनुमति नहीं होगी और इसका सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और यूट्यूब के जरिए 17 से 25 अक्टूबर तक लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से इस साल अयोध्या में रामलीला का मंचन करने की अनुमति  दिल्ली रामलीला समिति के निदेशक सुभाष मलिक को मिला है।उन्होंने  “मुख्यमंत्री को निमंत्रण दिया जो स्वीकार कर लिया है और वो इसे देखने के लिए किसी भी दिन अयोध्या आ सकते हैं.”।

यह भी पढ़ें:   कुशीनगर की आकांक्षा सिंह ने NEET-2020 में किया टॉप, पूरे गांव में बंटी मिठाईयां

“ऐतिहासिक क्षण होगा जब रामलीला का प्रसारण उर्दू में होगा। क्योंकि स्टार कास्ट में रजा मुराद और शाहबाज खान जैसे मुस्लिम कलाकार भी शामिल हो रहे है। भाजपा सांसद मनोज तिवारी इसमें अंगद की भूमिका निभाएंगे, गोरखपुर के सांसद रवि किशन भरत बनेंगे और विंदू दारा सिंह  हनुमान की भूमिका में नजर आएंगे”।

अभिनेता रजा मुराद अहिरावण का किरदार और अभिनेता शाहबाज खान रावण की भूमिका निभाएंगे। वहीं, असरानी नारद मुनि की और राकेश बेदी विभीषण की भूमिका निभाएंगे। , अयोध्या में रामलीला का प्रदर्शन करने के लिए प्रशासन की अनुमति हो गई है और  कोविड -19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन होगा।”

यह भी पढ़ें:   श्वेता तिवारी की ब्लू बिकनी तस्वीरों ने मचाया धमाल, फैन्स बोले Wow

इस आयोजन के लिए भगवान राम के कपड़े नेपाल के जनकपुर में स्थित उनके ससुराल से आएंगे, जबकि राक्षसराज रावण की पोशाक श्रीलंका से आ रही है। भगवान राम का धनुष ‘सारंग’ कुरुक्षेत्र में बनाया जा रहा है। आयोजन का एक विशेष आकर्षण ‘रामायण’ पर आधारित एक कार्यक्रम होगा जो अयोध्या के इतिहास को भी बताएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here