कोरोना के संक्रमण के कारण स्कूल इस शैक्षिक सत्र में खुल ही नहीं पाए थे…लेकिन अब केंद्र सरकार ने हायर सेकेंडरी के बाद सेकेंडरी और प्राइमरी स्‍कूल खोलने (School Reopen) की इजाजत दे दी है. कुछ राज्‍यों ने तो छूट मिलते ही स्‍कूल खोलने (school reopening new guidelines ) का विचार बना लिया लेकिन कोरोना के डर से कई राज्‍य अभी भी स्कूल खोलने का मन नहीं बना पा रहे हैं. इस बीच सवाल उठता है कि क्या अभिभावक बच्चों को इस संक्रमण काल में स्कूल भेजेंगे.

यह भी पढ़ें:   क्या तान्या शर्मा साथ निभाना साथिया-2 की पार्ट होंगी? एक्ट्रेस का ये था जवाब

कोरोना संकट के बीच 15 अक्टूबर से फिर से स्कूल खोले जाने को लेकर अभिभावकों की राय सामने आई है. अभी वे बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में नजर नहीं आ रहे हैं. इतना ही नहीं कई स्कूल प्रबंधन भी स्कूल खोलने के पक्ष में नजर नहीं आ रहे हैं.

बता दें कि स्कूलों में कोरोना संक्रमण के कारण रोस्टर प्रणाली लागू की जाएगी, जिसके तहत दो शिफ्ट में पढ़ाई यहां होगी. सभी कक्षाओं में विद्यार्थियों को उचित दूरी पर बिठाने की व्यवस्था की जाएगी. स्कूलों में मास्क और सैनेटाइजर के अलावा थर्मल स्कैनिंग से भी जांच की सुविधा होगी.

यह भी पढ़ें:   श्वेता तिवारी की ब्लू बिकनी तस्वीरों ने मचाया धमाल, फैन्स बोले Wow

झारखंड में स्कूल कब खुलेंगे?

झारखंड में 21 सितंबर से स्कूल खोलने की चर्चा थी, लेकिन बाद में सरकार ने इससे इनकार कर दिया. सरकार ने कहा कि अभी छात्रों को स्कूल बुलाना ठीक नहीं है. कब से स्कूल खोलें जायें, इस पर गहन विमर्श जारी है. सरकार ने कहा था कि छात्रों की जान को खतरे में डालना उचित नहीं होगा. राज्य सरकार ने अभिभावकों और शिक्षा जगत के लोगों से राय लेने के बाद स्कूलों को 31 अक्टूबर, 2020 तक नहीं खोलने का फैसला किया.

यह भी पढ़ें:   जानिए शरद पूर्णिमा पर खीर बनाकर रात में आसमान के नीचे रखने का क्या है महत्व?

यूपी-बिहार में 15 से खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

यूपी-बिहार में कोरोना वायरस को देखते हुए अनलॉक 5.0 लागू किया गया है. इसमें 15 अक्टूबर से राज्य के स्कूल और सार्वजनिक स्थल खोलने की अनुमति दी गई है. हालांकि गृह मंत्रालय ने नियमों का पालन नहींं करने पर सख्ती बरतने का निर्देश दिया है.

अन्य राज्यों की स्थिति क्या है?

आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री वाईएस जगन रेड्डी ने कहा है कि राज्‍य के स्‍कूल 2 नवंबर से खोल दिये जाएंगे. छत्‍तीसगढ़ सरकार ने कहा है कि सूबे में कोरोना की स्थिति को देखते हुए फिलहाल स्‍कूल बंद रखे जाएंगे. मेघालय की बात करें तो यहां की सरकार ने स्‍कूल खोलने को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं. कक्षा 6 से 8 तक के बच्‍चों को केवल कंसल्‍टेशन के लिए स्‍कूल आने की अनुमति प्रदान की जाएगी जबकि कक्षा 9-10 के छात्र भी कंसल्‍टेशन के लिए आ सकेंगे. कक्षा में पढ़ाई होगी या नहीं, इसपर 14 या 15 अक्‍टूबर को फैसला लिया जा सकता है. खबरों की मानें तो हरियाणा सरकार कक्षा 6 से 9 तक के बच्‍चों के लिए स्‍कूल खोल सकती है. उत्‍तर प्रदेश, बिहार, जम्‍मू-कश्‍मीर, उत्‍तराखंड सहित कई राज्‍यों में 15 अक्‍टूबर से स्‍कूल खुल जाएंगे.

यह भी पढ़ें:   अक्षय कुमार की फिल्म 'लक्ष्मी बॉम्ब' पर पड़ी कानूनी मार, करणी सेना ने भेजा नोटिस

केंद्र की गाइडलाइन : 15 से स्कूल खोलने के बारे में जानें ये जरूरी बात

-स्कूल जाना अनिवार्य नहीं, ऑनलाइन क्लासेज का भी विकल्प

-स्कूल जाने के लिए अभिभावकों की लिखित अनुमति जरूरी

-परिसर, फर्नीचर, स्टेशनरी, पानी, शौचालयों का संक्रमणमुक्त जरूरी

-सिटिंग प्लान में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान, अलग-अलग टाइम टेबल

-स्कूल में डॉक्टर या नर्स या अटेंडेंट फुल टाइम मौजूद होना चाहिए

-छात्र, शिक्षक के हेल्थ स्टेटस को अपडेट करना जरूरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here