Govardhan Puja or Annakoot 2020: दीपावली यानी दीवाली (Deepawali or Diwali) के अगले दिन गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja) की जाती है.

इसे अन्नकूट (Annakoot or Annakut) के नाम से भी जाना जाता है. गोवर्धन पूजा के दिन भगवान कृष्‍ण (Sri Krishna), गोवर्धन पर्वत और गायों की पूजा का विधान है.

इतना ही नहीं, इस दिन 56 या 108 तरह के पकवान बनाकर श्रीकृष्‍ण को उनका भोग लगाया जाता है. इन पकवानों को ‘अन्‍नकूट’ (Annakoot or Annakut) कहा जाता है.

ऐसी मान्यता है कि ब्रजवासियों की रक्षा के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी दिव्य शक्ति से विशाल गोवर्धन पर्वत को छोटी अंगुली में उठाकर हजारों जीव-जतुंओं और इंसानी जिंदगियों को भगवान इंद्र के कोप से बचाया था.

यह भी पढ़ें:   कंगना पर फिदा हुए साउथ स्टार्स Thalaivi का ट्रेलर देख , क्यों पसरा सन्नाटा बॉलीवुड में ?

यानी भगवान कृष्‍ण ने देव राज इन्‍द्र के घमंड को चूर-चूर कर गोवर्धन पर्वत की पूजा की थी. इस दिन लोग अपने घरों में गाय के गोबर से गोवर्धन बनाते हैं.

गोवर्द्धन पूजा 2018: गोवर्द्धन पर्वत को पूजने का शुभ मुहूर्त, साथ ही जानिए पूरी पूजा विधि

गोवर्धन पूजा या अन्‍नकूट कब मनाई जाती है ?

गोवर्धन पूजा कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को मनाई जाती है. अन्नकूट (Anna Koot) पूजा दीवाली (Diwali) के एक दिन बाद यानी ठीक दीवाली के अगले दिन मनाई जाती है. इस बार अन्नकूट पूजा 15 नवंबर को है.

यह भी पढ़ें:   यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने Sonu Nigam से की मुलाकात

गोवर्द्धन पूजा की तिथि और शुभ मुहूर्त

गोवर्द्धन पूजा / अन्‍नकूट की तिथि: 15 नवंबर 2020
प्रतिपदा तिथि प्रारंभ: 15 नवंबर 2020 को सुबह 10 बजकर 36 मिनट से
प्रतिपदा तिथि समाप्‍त: 16 नवंबर 2020 को सुबह 07 बजकर 06 मिनट तक
गोवर्द्धन पूजा सांयकाल मुहूर्त: 15 नवंबर 2020 को दोपहर 03 बजकर 19 मिनट से शाम 05 बजकर 27 मिनट तक
कुल अवधि: 02 घंटे 09 मिनट

अन्नकूट क्‍या है?

अन्नकूट पर्व पर तरह-तरह के पकवानों से भगवान की पूजा का विधान है. अन्नकूट यानी कि अन्न का समूह. श्रद्धालु तरह-तरह की मिठाइयों और पकवानों से भगवान कृष्‍ण को भोग लगाते हैं.

यह भी पढ़ें:   अंकिता ने जब शेयर की बिना मेकअप की तस्वीरें तो फैंस बोले...

मान्यताओं के मुताबिक भगवान श्रीकृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से अन्नकूट और गोवर्धन पूजा की शुरुआत हुई.

एक और मान्यता है कि एक बार इंद्र अभिमान में चूर हो गए और सात दिन तक लगातार बारिश करने लगे.

तब भगवान श्री कृष्ण ने उनके अहंकार को तोड़ने और जनता की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को ही अंगुली पर उठा लिया था. बाद में इंद्र को क्षमायाचना करनी पड़ी थी.

कहा जाता है कि उस दिन के बाद से गोवर्धन की पूजा शुरू हुई. जमीन पर गोबर से गोवर्धन की आकृति बनाकर पूजा की जाती है.

यह भी पढ़ें:   Ankita Lokhande ने `अर्चना` बनकर सुशांत को दिया ट्रिब्यूट, परफॉर्मेंस देख भर आएगी आंख

गोवर्द्धन पूजा की विधि

– गोदवर्द्धन पूजा के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर शरीर पर तेल लगाने के बाद स्‍नान कर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें.
– अब अपने ईष्‍ट देवता का ध्‍यान करें और फिर घर के मुख्‍य दरवाजे के सामने गाय के गोबर से गोवर्द्धन पर्वत बनाएं.
– अब इस पर्वत को पौधों, पेड़ की शाखाओं और फूलों से सजाएं. गोवर्द्धन पर अपामार्ग की टहनियां जरूर लगाएं.
– अब पर्वत पर रोली, कुमकुम, अक्षत और फूल अर्पित करें.

– अब हाथ जोड़कर प्रार्थना करते हुए कहें:

यह भी पढ़ें:   New Corona Strain: भारत में यूके से लौटे 7 लोग कोरोना के नए स्ट्रेन से संक्रमित

गोवर्धन धराधार गोकुल त्राणकारक।
विष्णुबाहु कृतोच्छ्राय गवां कोटिप्रभो भव: ।।